असाध्य नहीं है स्वांस दमा और डायबिटीज रोग

asthma in hindi
asthma in hindi

Asthma aur Sugar ka desi ilaj in hindi : आर्थिक सम्पन्नता बढ़ने के साथ साथ लोगों में पेट रोग तेजी से बढ़ रहे है जिसके कारण से शरीर में अनेकों रोग स्वतः ही जन्म लेने लगते है. जिनमे दमा (asthma), मधुमेह (diabetes), प्रदर, उच्च व निम्न रक्तचाप (blood presser) के साथ नाक की हड्डी बढ़ने (sinusitis) जैसे रोग के मामले काफी बढे हैं. इन सभी रोगों का सबसे प्रमुख कारण पेट से उत्पन्न रोग है. जिसकी ओर कोई भी चिकित्सक ध्यान नहीं देता बल्कि वह सिर्फ अर्थ दोहन में ही लगा रहता है. साथ ही कंपनियों के M.R भी इन चिकित्सकों को तरह तरह के प्रलोभन देकर अपनी कंपनी की दवाइयों को बेचते हैं जिसके कारण आज के वैद्य बंधू भी औषधियों का निर्माण बंद कर सिर्फ और सिर्फ कंपनियों की दवाइयों पर आश्रित हो गए और Asthma, Diabetes जैसे रोग असाध्य रोगों की सूचि में आ गए.

ये विषय बहुत बड़ा है इसलिए इसको एक ही लेख के माध्यम से समझाया नहीं जा सकता. इसलिए इसलिए मैंने इन रोगों के निवारण के लिए इस लेख को तीन भागों में प्रस्तुत करूँगा.

asthma in hindi
asthma in hindi

Asthma-Sugar का आयुर्वेदिक घरेलु इलाज :

जहाँ एलोपथिक औषधियां एक रोग को दबाकर दुसरे रोग को उभर देती है वही आयुर्वेदिक दवा औषधि न होकर health के संरक्षण के लिए आवशयक पोषक तत्त्व है जिसे हम भारतीय भोजन में मसाले के रूप में प्रतिदिन प्रयोग करते है. आज के इस Health Tips In Hindi लेख में मैं आपको Asthma और Diabetes जैसे रोगों पर लगाम कैसे लगाये ये बताऊंगा हालाँकि इस लेख में मैं आपको किसी भी प्रकार की आयुर्वेदिक औषधि के बारे में नहीं बताऊंगा क्यूंकि इस लेख में मैं आपको कुछ ऐसे घरेलु टिप्स बताऊंगा जो इन असाध्य रोगों की जड़ों को कमजोर करेंगे और अगले लेख में मैं आपको Asthma aur Sugar ka desi ilaj in hindi में बताऊंगा.

Asthma aur Sugar ka desi ilaj in hindi :

सबसे पहले आपको अपना खान पान सुधारना होगा क्यूंकि आपकी पाचन क्रिया जितनी दुरुस्त होगी आप उतना ही निरोगी रहेंगे. पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए आपको सबसे कुछ नियमों का पालन करना होगा आप जितना ज्यादा इन नियमो का पालन करेंगे आपके स्वस्थ होने की संभावना उतनी ही ज्यादा बढ़ जायेगी.

Natural Health tips in hindi For Asthma & Sugar Cure :

इस लेख में मैं आपको पहले चरण की जानकारी दूंगा जिसे कर के आपको 15-20% राहत बिना दावा के ही मिलने लगेगी. लेकिन आपको इस प्रयोग को लगातार करते रहने होगा.

अस्थमा और सुगर रोग में परहेज :

  1. तली भुनी चीजे, तेज मिर्च मसाले वाला भोजन कतई न करे.
  2. दूध, घी उड़द की दाल, चावल और कफ वर्धक आहार का सेवन न करे.
  3. मांस-मछली-अंडा इत्यादि का भी सेवन बंद कर दे.
  4. मल मूत्र इत्यादि के वेग को अधिक देर तक न रोक कर रखे
  5. धुम्र-पान न करे और प्रदुषण वाली जगह से दुरी बनाये रखे.
  6. चाय काफी का सेवन कम से कम करे.
  7. मैदे से बनी चीजो को मत खाए.

अस्थमा और सुगर रोग में क्या खाए :

  1. सबसे पहले दिनचर्या बना ले जैसे सुबह जल्दी उठना और रात को जल्दी सोना.
  2. सुबह उठ कर अनुलोम विलोम प्राणायाम करे.
  3. सौच जाने से पूर्व एक गिलास गुनगुना पानी में 1 ग्राम काला नमक दाल कर ले.
  4. सुबह के नाश्ते में अंकुरित अनाज ले जिसमे चने की मात्रा 70% रहनी चाहिए.
  5. भोजन में मोटा अनाज जैसे जौ, मकई, जुंडी, चने का आटा इत्यादि की रोटी खाए.
  6. सब्जी में हरी सब्जियां अधिक मात्रा में खाए.
  7. ऐसा भोजन करे जो जल्दी पचने वाला हो.
  8. खाना खाते समय पानी न पिए. खाना खाने के 1 घंटे बाद पानी पिए.
  9. रात्रि का भोजन सोने से तीन घंटे पूर्व करे ऐसा करने से भोजन जल्दी पचता है.
  10. रात्रि को सोने से पूर्व 1 गिलास गुनगुना पानी में 1 ग्राम नमक मिला के पिए. यह पेट की पाचन क्रिया को बढाता है और आँतों की सफाई करता है.
  11. साँस गहरी लेने की आदत डाले. इससे स्वास की आरोह अवरोह क्रमबद्ध होता है और फेफड़े मजबूत होते है.
  12. भोजन करने के बाद वज्रासन पर बैठे. वज्रासन एक मात्र ऐसा योग है जो भोजन करने के बाद भी किया जा सकता है. इस आसन से पेट की जठराग्नि मजबूत होती है.

उपरोक्त बताये गए नियमों का पालन करते रहे. जिस प्रकार अस्थमा या सुगर रोग एक दिन में नहीं उत्पन्न होते है इसी प्रकार इन रोगों को ख़तम होने में समय भी लगता है. आप जो दावा खा रहे है उसे खाते रहिये साथ में इस लेख में बताये गए नियमो का पालन करते रहे और इसे अपने जीवन का नियम बना ले. अगले लेख में मैं आपको दवा के बारे में बताऊंगा जिनमे से कई सारी दवाइयां आपके घर में ही उपलब्ध है.

मैं स्वयं कभी Asthma का रोगी था और एलोपैथ से लेकर होम्योपैथ और desi दवाओं से लेकर सब कुछ आजमा लिया लेकिन कोई भी लाभ नहीं हुआ. फिर मैंने आयुवेद का अध्यन शुरू किया और 6 महीने तक अध्यन करने के बाद मैंने अस्थमा की आयुर्वेदिक दवा अपने घर पर ही तैयार की जिसका लगातार एक साल तक सेवन करने के बाद आज मैं पूरी तरह से निरोगी हूँ.

यदि आपको अस्थमा या सुगर रोग से सम्बंधित किसी भी प्रकार की कोई समस्या है है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है.

 

1 Trackback / Pingback

  1. Kapur ke fayde in Hindi : कपूर के औषधीय गुण, प्रयोग एवं फायदे 

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*